[the_ad_placement id="mobile-above-title"]
Home Blog Page 2

वीडियो में देखिये कैसे बवाल मचा जब देखी CM योगी के दफ्तर में आज़म खान की फोटो टंगी हुई

उत्तर प्रदेश में बीजेपी की योगी आदित्यनाथ सरकार जब से सत्ता में आई है, तभी से ही लगातार एक्शन में दिखाई दे रही है. योगी सरकार के एक मात्र मुस्लिम चेहरे अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा गुरुवार को अपने दफ्तर अचानक निरीक्षण करने पहुंचे. मोहसिन रजा ने हज कमेटी के अफसरों को कड़ी फटकार लगाई.

आजम की तस्वीर देख भड़के
मोहसिन रजा जब दफ्तर पहुंचे, तो वहां चेंबर के बाहर लगी आजम खान की तस्वीर देख कर भड़क गये. उन्होंने हज कमेटी के सचिव को तुरंत व्यवस्था बदलने के निर्देश दिये हैं. वहीं उन्होंने वहां अधिकारियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीरें लगाने के आदेश दिये. इसके साथ ही लोगों की सुविधाओं को बढ़ाने पर पीएम की घोषणाओं को जगह-जगह लिखने को कहा है.

आगे देखिये वो वीडियो जिस में दिखाया है कैसे भड़के बीजेपी के नेता आज़म खान की फोटो देख कर

अमित शाह और योगी आदित्य नाथ में तना तनी शाह को योगी का ये काम पसंद नहीं आया ..

उत्तर प्रदेश के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त व्यक्ति के रूप में उभर कर सामने आए हैं। दिल्ली में जब वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह तथा अन्य नेताओं से मिले तो मुस्कुराते हुए दिखाई दिए। जब कैबिनेट के गठन के मामले पर चर्चा हुई तो योगी ने स्पष्ट रूप से अमित शाह को बता दिया कि मुझे एक वर्ष चाहिए।

 

आप मुझे खुला हाथ दें और परिणाम देखें। चहेतों को दिया जाए बढ़िया पद
जानकारी के अनुसार शाह चाहते थे कि मौर्य, दिनेश शर्मा, श्रीकांत शर्मा, सिद्धार्थनाथ सिंह जैसे उनके चहेतों को बढ़िया पद दिया जाए, मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ।

आगे जानिए आखिर ऐसा क्या हुआ के शाह भी नाराज होगये

आज जो हजरतगंज कोतवाली में हुआ पुलिस वाले कभी नहीं भूलेंगे .. योगी ने मचाया धमाल

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी आज राजधानी लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली के औचक निरीक्षण करने पहुंचे हैं। इस दौरान हजरतगंज कोतवाली में लखनऊ की एसएसपी मंजिल सैनी भी मौजूद हैं। इस दौरान उन्होंने थाने की सुरक्षा व्यवस्था की भी जांच की। साथ ही उन्होंने महिला पुलिसकर्मियों से भी बातचीत की। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों से कानून-व्यवस्था ठीक रखने और फरियादियों की हर हाल में सुनवाई के निर्देश दिए।


व्यवस्थाएं देखने आया हूं: इस दौरान उन्होंने कहा कि वो थाने की व्यवस्था देखने आए हैं। यहां सभी लोगों की फरियाद सुनी जाएगी और उत्तर प्रदेश में कानून का राज होगा। साथ ही उत्तर प्रदेश की जनता के हित में हर कदम उठाए जाएंगे। योगी ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश में बहुत कुछ बदलने वाला है और यह तो केवल पहला निरीक्षण है आखिरी नहीं।’ लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी हाल में पुलिस का मनोबल नहीं गिरने दिया जाएगा।

आगे जाने क्या किया थाने में CM योगी आदित्य नाथ ने

भाजपा में बड़ा बदलाव….

डिप्टी सीएम पद की शपथ लेने के बाद केशव प्रसाद मौर्य प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देंगे. इसके साथ ही नए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष को लेकर अटकलों का बजार भी गर्म हो गया हैl
संगठन के कई नेताओं के मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद खाली हुए महत्वपूर्ण पदों के लिए कई दिग्गज अब जोर आजमाईश करने लगे हैं.

इस बात पर पेच बहस रहा है कि ब्राह्मण बनाया जाय या दलित बनाया जाय क्यों कि अगर वोट प्रतिशत देखे तो दलितों का जायदा है पर अगर भाजपा को मिलने बाला वोट प्रतिशत देखे तो भाजपा को ब्रहीम वोट जादा मिलता है l

कौन है आगे जानने के लिए आगे पढ़े 

नीतीश कुमार की इस हरकत से नाराज हैं तेजस्वी यादव, लालू यादव ने भी दिखाए तेवर और उठाया ये कदम !

बिहार की राजनीती में अब कुछ ऐसा हो रहा है कि नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव की पार्टी के गठबंधन की गांठ खुल सकती है l वहीं अगर कुछ साल पहले की बात करें तो बिहार की राजनीती में कहा जाता था कि लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार एक दूसरे के राजनीतिक दुश्मन थे l

समय बदला और केंद्र में मोदी सरकार बनी और सबकी राजनीती विफल होती नजर आई l जब विफल होते दिग्गजों को लगा कि मोदी के आने से उनकी राजनीतिक जमीन खतरे में हैं तो लालू और नीतीश की पार्टी ने मिलकर गठबंधन बनाया l

जानिए लालू और और नितीश के गठबंधन कि मज़बूरी क्या है 

अमित शाह कर रहे थे असुरक्षित महसूस ,लगाया योगी आदित्यनाथ को फ़ोन उसके बाद योगी ने जो किया जानकर हो जाएंगे आप गदगद..

11 मार्च को यूपी विधानसभा चुनावों के नतीजे आने के बाद “यूपी का सीएम कौन बनेगा”? यह सबसे बड़े सवाल की दौड़ में आगे निकलता दिखाई दिया लेकिन 18 मार्च को जब यूपी के सीएम के तौर पर गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ का नाम सामने आया तब एक और नया सवाल खड़ा हो गया

कि योगी आदित्यनाथ आखिरकार किसकी पंसद हैं?प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ,राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह या फ़िर राष्ट्रीय संघ के प्रमुख मोहन भागवत की? मीडिया में अभी भी यह मामला एक चर्चा का विषय बना हुआ है

अगले पेज पर जानें अमित शाह के साथ हुए उस हादसे के बारे में जिसके बाद से योगी आदित्यनाथ ने अमित शाह के मन में एक अलग ही भूमिका बना ली ..

राम मंदिर का नाम सुनते ही मौलवी जी शो छोड़ कर भागे !

अयोध्या में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद के विवादित मुद्दे को सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थता करानी वाली बात को लेकर एक  डिबेट के दौरान एंकर ने बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के कंवीनर जफरयाब जिलानी को खूब लताड़ा. जिसके बाद तिलमिलाए जिलानी शो छोड़कर चले गए. दरअसल  हम तो पूछेंगे में एंकर सुमित अवस्थी ने इस विषय पर चर्चा करने के लिए बड़ा सा पैनल बुलाया हुआ था. जिसमें जिलानी समेत संघ विचारक राकेश सिंहा, कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह, बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन मुस्लिम चिंतक फहीम बेग और बाबरी कमेटी के सह संयोजक जफरयाब जिलानी शामिल थे.

जैसे ही यह डिबेट शुरु हुई तो राकेश सिन्हा ने कई तथ्यों का हवाला देते हुए बाबरी मस्जिद कमेटी पर आरोप लगाना शुरु कर दिया. उन्होंने कहा कोर्ट की पहले हुई कार्रवाइयों में सबूतों के साथ साबित किया जा चुका है कि वहां पहले से राम मंदिर था. इसके बाद जब एंकर ने जिलानी से इसपर अपनी बात रखने के लिए कहा तो उन्होंने सिन्हा द्वारा दिखाए जा रहे तथ्यों को गलत ठहराया. जिलानी भी पिछली कार्रवाइयों का हवाला देते हुए कहने लगे कि वहां पहले से बाबरी मस्जिद का ढांचा था जिसे कोर्ट ने भी माना था. इसके बाद जैसे ही एंकर ने जिलानी से कुछ पूछना चाहा तो वह भड़क गए.

आगे देखे वो वीडयो जिस में मौलाना जी भाग रहे है 

विडियो:कांग्रेस के साथ आज हुई बहुत नाइंसाफी, पहले ही जले-भुने बैठे थे, YOGI ने डाल दी घाव पर मिर्ची…

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों के साथ जो किया उसकी उम्मीद कांग्रेस को तो कत्तई नहीं रही होगी, कांग्रेस ने सोचा होगा कि योगी आदित्यनाथ अभी अभी मुख्यमंत्री बने हैं, थैंक्यू, धन्यवाद, टाटा और बाय बाय कहकर निकल जाएंगे लेकिन योगी आदित्यनाथ तो कुछ और ही सोचकर आये थे।

 

 

 

एक तरह से कहें तो योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद कांग्रेसी जले भुने बैठे थे, कांग्रेस को बहुत बड़ा घाव लगा था और आज उसी घाव पर योगी आदित्यनाथ ने मिर्ची डाल दी, कांग्रेस को ऐसी मिर्ची लगी कि उनके नेता मल्लिकार्जुन खडगे अपनी सीट से उठ खड़े हुए और योगी से बोले – आपको कुर्सी मिली है तो आप उस कुर्सी की गरिमा का ख्याल रखें और आगे बढ़ें’।  मल्लिकार्जुन खडगे की बातें सुनकर ऐसा लगा कि उनके घाव अब तक नहीं सूखे हैं

 

आगे आप खुद देखे विडियो और शेयर करे ..

राम मन्दिर पर सुब्रमन्यम स्वामी का बड़ा बयान ..

राम मन्दिर का निर्माण जल्द ही होने बाला है इसका दावा स्वयं सुब्रमण्यम स्वामी ने अदालत में किया है. जैसे ही सुब्रमण्यम स्वामी ने सुप्रीम कोर्ट को इसकी जानकारी दी कि उनके पास राम मंदिर निर्माण विवाद को बातचीत से हल करने का फाम्र्यूला है तो उसके बाद वर्षों से अदालत की चौखट पर अटके अयोध्या राम मंदिर निर्माण विवाद का अदालत के बाहर हल होने की संभावनाएं जगी हैंl

सुप्रीम कोर्ट ने मामले को संवेदनशील और आस्था से जुड़ा बताते हुए पक्षकारों से बातचीत के जरिए आपसी सहमति से मसले का हल निकालने को कह दिया है.राम मंदिर निर्माण पर कोर्ट ने यहां तक सुझाव दिया कि अगर जरूरत पड़ी तो वो हल निकालने के लिए मध्यस्थता को भी तैयार है. कोर्ट का यह रुख इसलिए अहम है क्योंकि एक बड़ा वर्ग इसे बातचीत और सामंजस्य से ही सुलझाने की बात करता रहा है.गौरतलब है कि यह टिप्पणी मंगलवार को मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर, न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की पीठ ने भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की अयोध्या जन्मभूमि विवाद मामले की जल्दी सुनवाई की मांग पर कीl

आखिर कब तक बनेगा मन्दिर जाने आगे 

“क्या है 6/6/66 का रहस्य, जब खाली हो गया था देश का खजाना “

इंदिरा गांधी जब भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी तो शायद किसी ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उनकी नीतियां इतनी मजबूत और सशक्त होंगी. इंदिरा के दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था में ऐसा एतिहासिक और साहसिक कदम उठाया गया जिसने न केवल दुनिया का ध्यान भारत की तरफ खिंचा बल्कि देश की सूरत ही बदल कर रख दी. आइए जानते हैं आखिर क्या था वह कदम जिसने भारत की अर्थव्यवस्था में एक बड़ा बदलाव किया.

आज से ठीक 50 साल पहले 6/6/1966 इंदिरा ने एक ऐसा कदम उठाया जिसे आज भी याद किया जाता है. भारत की आजादी और बंटवारे के बाद भारत की स्थिति भले ही पाकिस्तान से अच्छी थी, लेकिन उसकी अर्थव्यवस्था कभी भी दम तोड़ सकती थी. तब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने विरोध के बावजूद रुपये की कीमत में बड़े बदलाव किए थे.

आगे पढ़े पूरी खबर 

Recommended Stories