भारत ने रच दिया इतिहास !

यह मिसाइल अपने साथ एक नहीं बल्कि

3878

इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल है   भारत के सर्वाधिक सीक्रेट प्लान के तहत बनायी गयी इस मिसाइल की मारक क्षमता के बारे में बताया जा रहा है कि इसकी मारक क्षमता 10,000 से 12,000 किमी तक की है, यह एक इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल है।इस मिसाइल के भारतीय सेना के जखीरे में शामिल होने के बाद भारतीय सेना हिन्दुस्तान में ही बैठे-बैठे यूरोप, एशिया, अफ्रीका, अलास्का और उत्तरी कनाडा तक निशाना लगा सकती है।

किन-किन देशों के पास है इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल
अभी अमेरिका के पास 13 हजार किलोमीटर की मारक क्षमता वाली मिसाइल मौजूद है।
चीन ने हाल ही 14 हजार किलोमीटर तक मार करने वाली डोंगफेंग-41 नाम की मिसाइल का परीक्षण किया है।जबकि रूस के पास अभी 10 हजार किलोमीटर और पाकिस्तान के पास सिर्फ 2 हजार 750 किलोमीटर की रेंज वाली मिसाइल मौजूद है।भारतीय रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के वैज्ञानिकों की लगातार कोशिश है कि वो भारतीय सेना को मजबूती प्रदान कर सकें। संस्थान के वैज्ञानिकों का हना है कि अपने देश की सेना और सेनाओं को वो मजबूती देने की कोशिश कर रहे हैं जिसके सामने किसी भी देश की सेना घुटने टेक दे और हार मान ले।

2 of 2